One Response

Page 1 of 1
  1. avatar
    पिछड़ा उत्तराखण्डी May 29, 2012 at 1:27 PM |

    यदि २००० कि संशोधित आरक्षण सूची में लोहार बढ़ई ताम्रकार शिल्पकार में समाहित हैं तो पिछड़ी जाति कि सूची में इनका नाम क्यों रखा गया है? वास्तविकता ये है कि अनुसूचित जाति का आरक्षण पिछडो को दिया जा रहा है और क्षत्रिय और ब्राह्मण पिछड़ी जाति का आरक्षण खा रहे हैं उत्तराखंड में

    Reply

Leave a Reply

%d bloggers like this: