One Response

Page 1 of 1
  1. avatar
    घिंघारु July 14, 2010 at 10:37 AM |

    उत्तराखण्ड बनते ही अध्यापकों का आयात होना शुरु हुआ, जो कभी चाय की दुकान थी, वह बी०एड० कालेज बन गये। आनन-फानन में कुछेक हजार खर्च कर बी०एड० की डिग्री लेकर नौकरी पाये मुंशियों से आप शैक्षणिक माहौल और नैतिकता की अपेक्षा कर भी कैसे सकते हैं?

    Reply

Leave a Reply

%d bloggers like this: